Blogger templates

गुरुवार, 24 मई 2012

मिथिलाक लोक



चानन टीका तीन तराका दे खैनी पर ठोक,
जहरहु बाँटि- कूटिक' खाइ छथि मिथिलांचल के लोक ।
हिनकर गलती सुना देबनि त' उकटि देता पुरुखाके,
मुँह पर करी प्रशंसा देता खैनी तुरत चुनाके ।
बहुत गुणी अछि मिथिला मैथिल जगतक लोक जनैये,
मुदा, कमीके नहि बजला सँ वशंज बहुत कनैये ।
एकहि आंगन बास करइ छथि एक श्रोत्रि दुइ ब्राह्मण,
प्रथम बुझइ छथि पाप दहेजे दोसर टीका चानन।
निज गलतीके कते नुकायब हीन कर्म के छोडू,
काँट दहेजक दूर हटाबू हृदय-हृदय केँ जोडू़ ।

1 comments:

  1. To All The Users Of Mithla gaam ghar its time for result of bihar matric result 2012 so if u want to know about the result online plz visit my site
    Bihar Matric Result Online

    उत्तर देंहटाएं